Pages

Friday, 27 September 2013

Mukaddar


मिलता नहीं मुकद्दर से जादा कभी किसी बन्दे को ,
वो भी अपने मुकद्दर से जादा नहीं पाता  ,
जो मुकद्दर का सिकन्दर  होता  है .


Wednesday, 25 September 2013

Irada hai

ना तुमसे दूर रहा हु कभी ,
न दूर रहने की तमन्ना है !
इन्सान की क्या हिम्मत हमे रोकने की ,
तुम्हे पाने के लिए ,
खुदा से भी लड़ने का इरादा है !!!

Sunday, 15 September 2013

Bhai Chare Me Dushmani Ku


नफरत की लपटों में,
वहशीपन की ज्वाला में ,
वैमनस्यता की आग में ,
जल रही है मानवता ,
सुलग रही है मनुष्यता !!

इस मलिन विचार को  उखाड़ फेको ,
ये दूषित विचारधारा को निकल फेको ,
ये नफरत के बीज  बोना बंद कर दो ,
ये रक्तपात और खूनी खेल भी बंद कर दो ,
ये धार्मिक उन्माद भी बंद कर दो ,
ये लोगो में सामाजिक जहर घोलना बंद  कर दो !!

जब ये सबको मालूम है कि,
 तुम दोनों एक ही डाल के दो शाख हो ,
ये बात तुम दोनों को भी मालूम है !

फिर इतना जुल्म क्यों ?
फिर इतना वहशीपन क्यों ?
फिर ये खूनी खेल  क्यों ?
फिर ये धार्मिक उन्माद क्यों ?
फिर ये मंदिर मस्जिद पे लड़ना  क्यों ?
फिर ये भाई चारे में दुश्मनी  क्यों ?

Thursday, 12 September 2013

Bhul Nahi Pata

जुदा  होकर तुझसे,
रुसवा होकर तुझसे ,
तेरी प्यारी यादेँ ,
मै भूल नहीं पाता !
तेरी दिलकश बातें,
मै भूल नहीं पाता !!

तुझसे खुदको कोसो दूर  रखकर ,
तेरे दिलो-जाँ  से बहोत दूर होकर,
तुझे भूलना तो चाहता हूं लेकिन ,
भूल नहीं पाता !
मै  सच में भूल नहीं पाता ,
मजबूर हूं मै  इस क़दर,
तेरी यादों को खुद से मिटा नहीं पाता ,
तुझे भूल नहीं पाता !
तुझे भूल नहीं पाता !!

वो जो सपने बुने थे हमने,
वो जो कसमे खायीं  थी साथ में,
वो हसीं ख्वाब सच में भुला नहीं पाता ,
वो तेरी यादें दिल से जुदा नहीं कर पाता ,
तुझे भूल नहीं पाता !
तुझे भूल नहीं पाता !!