Pages

Tuesday, 11 June 2013

Kabhi Kabhi

 साथ  साथ  चलते  चलते  यूँ  ही ,
 राहे  जुदा  हो  जाती  है  
     कभी  कभी !
ये  रुखसत  का  आलम  भी  आ  जाता  है  यूँ  ही ,
     कभी  कभी !
ये  पहले  से  मालूम  नहीं   होता ,
फिर  बीच में  जुदा  होना  पड़ता  है ,
      कभी  कभी !
ये  हसीं  ख्वाब  भी  टूटते  नज़र  आते  है ,
     कभी  कभी !
क्युकि  राहे  मोहब्बत  भी  जुदा  हो  जाती  है,
       कभी  कभी !!!!!!